IPL: हरभजन-श्रीसंत के थप्पड़ कांड की पूरी कहानी

श्रीशांत ने एक बाउंसर मारा और सचिन को जाकर पास घूरना शुरू कर दिया था।

0
859
IPL: हरभजन-श्रीसंत के थप्पड़ कांड की पूरी कहानी
IPL: हरभजन-श्रीसंत के थप्पड़ कांड की पूरी कहानी

IPL: हरभजन-श्रीसंत के थप्पड़ कांड की पूरी कहानी


10 साल से ज्यादा वक्त बीत चुका है (SlapGate) स्लैप गेट, श्रीसंत को हरभजन सिंह ने थप्पड़ मारा था। उस वक्त बहुत बड़ा विवाद था इसे स्लैप गेट कहा गया था। 10 साल बाद श्रीशांत को एक बार फिर याद आई जब बिग बॉस के घर में उनसे पूछा गया कि हुआ क्या था। ये सुनकर जब श्रीशांत ने कहा कि मुझे भज्जू पाजी ने थप्पड़ नहीं मारा उन्होंने जोर से कोहनी मारी थी, थप्पड़ तो आराम से मारा जाता है एक थप्पड़ से ज्यादा मुझे मारने की कोशिश की थी।

ये इंसिडेंट बल्कि साढ़े दस साल पुराना है लेकिन लगता है जैसे अभी कल ही बीता था क्योंकि वो पहला आईपीएल था और मोहाली में मैच था। किंग्स इलेवन पंजाब बनाम मुम्बई इंडियंस और हरभजन सिंह का वैसे तो घरेलू मैदान है लेकिन वो मुम्बई इंडियंस की तरफ से खेल रहे थे। श्रीशांत उन दिनों किंग्स इलेवन पंजाब से खेलते थे जिसके कप्तान थे युवराज सिंह। मैच खत्म हो गया। अब पंजाब की टीम ने मुम्बई को हरा दिया और जब खिलाड़ी बाहर आ रहे थे। लाइव टेलीविजन पर ये आया कि खिलाड़ी आए और अचानक से फिर दिखा कि श्रीसंत का थोड़ा रो रहे हैं।

श्रीसंत ने इल्जाम लगाया कि हरभजन सिंह ने मैच के बाद मुझे थप्पड़ मारा। युवराज सिंह जो की हरभजन सिंह के बड़े करीबी दोस्त थे वो किंग्स इलेवन पंजाब के कप्तान भी थे। युवराज सिंह ने कहा था दिस इज नॉट डन ये क्रिकेट नहीं है। यानि की वो अपने दोस्त हरभजन सिंह से खफा थे।

लेकिन ये ड्रामा अभी शुरू हुआ था चूंकि मुम्बई इंडियंस की टीम में सचिन तेंडुलकर भी थे और पहला आईपीएल था और यह आईपीएल का सबसे पहला विवाद भी था और विवाद दो भारतीय क्रिकेट के सितारे। चूंकि श्रीसंत का उस वक्त का काफी नाम था, हरभजन सिंह लेजंड थे और इसे तकरीबन तीन महीने पहले हरभजन सिंह मंकी गेट में भी फंसे थे जो सिडनी में जहां एंड्र्यू साइमंड्स और हरभजन सिंह के बीच हुआ था फिर मैच से बैन हूये, लेकिन जब भारत ने दुबारा अपील की तो ये पता चला कि हरभजन सिंह ने मंकी का इस्तेमाल नहीं किया था तो उनको छोड़ दिया गया था।

लेकिन उसके तीन महीने के अंदर इतना बड़ा विवाद भारतीय क्रिकेट में और उस वक्त तो ये लग रहा था कि कुछ बहुत बड़ा एक्शन लिया जाएगा। अतीत ने रात को तकरीबन 2 बजे हरभजन सिंह का इंटरव्यू किया उनके होटेल जाकर जिसमें उन्होंने कहा कि मैं और श्रीसंत भाई उनकी तरह है और मैंने को थप्पड़ नहीं मारा ऐसी कोई बात नहीं हुई कहा सुनी हुई है और सब कुछ ठीक हो जाएगा।

उसके बाद अतीत ने श्रीशांत का इंटरव्यू करने के लिए और जाहिर तौर पर इन दो घंटों में कुछ ऐसा हुआ कि श्रीशांत ने इंटरव्यू में कहा कि थप्पड़ वाली तो बात ही नहीं हुई।लड़का मुझे को थप्पड़ नहीं मारा गया। थोड़ी सी वो कहासुनी हो गई लेकिन हरभजन सिंह तो अब मेरे भाई की तरह है सब कुछ ठीक ठाक है

उसके बाद अतीत में दोबारा से हरभजन सिंह रिव्यू किया तो रात के 4 बजे तक ये सबकुछ चला। थप्पड़ वाली कोई बात नहीं थी। उसके बाद अतीत ने इंटरव्यू किया फारुख इंजीनियर का भारत के परफॉर्मर विकेटकीपर थे और वो इंग्लैंड में रहते। लेकिन फारूख इंजीनियर के मुंह से निकल गया कि भई क्रिकेट में ऐसा थोड़ी होता है कि लफाड़ा मार दिया। लफाड़ा शब्द इस्तेमाल किया ये साफ था कि CCTV फुटेज मे देख लिया है कि थप्पड़ पड़ा है उसके बाद बड़ा विवाद हुआ।

लेकिन बिग बॉस में श्रीसंथ ने बोला कि हरभजन सिंह ने मेरा करियर खत्म किया, उन्होंने मुझे थप्पड़ नहीं बल्कि मुझे कोहनी मारी और मुझे मारने की कोशिश की लेकिन उसमें उन्हें एक लफ्ज का इस्तेमाल किया बैकस्टेबर। श्रीशांत ने कहा कि, मैं हरभजन सिंह की बहुत इज्जत करता हूं लेकिन हरभजन सिंह बैकस्टेबर है ये लफ्ज अभी तक समझ नहीं आया।
श्रीशांत की रेपुटेशन ड्रेसिंग रूम में को बहुत ज्यादा अच्छी नहीं थी। मज़ाक में कई खिलाड़ी ऐसा कहते थे, जिस तरह की हरकतें श्रीशांत करता है, किसी न किसी दिन थप्पड़ खायेगा, लेकिन ये नहीं पता था कि भारतीय खिलाड़ी सही हो तो पढ़ाएंगे।

श्रीसंत अक्सर सीनियर प्लेयर्स के साथ उलझ जाते थे। मसलन एक बार चैलेंजर ट्रॉफी का मैच था सचिन तेंदुलकर कर बैटिंग कर रहे थे। श्रीशांत ने एक बाउंसर मारा और सचिन को जाकर पास घूरना शुरू कर दिया था। उस वक्त भी लोगों ने कहा था कि ये हरकत शोभा नहीं देती, क्यूंकि श्रीशांत तभी नये-नये आए थे और सचिन तेंदुलकर की दुनिया भर में इतनी इज्जत थी कि, किसी की हिम्मत नहीं होती इस तरह बदतमीजी करने की।