मिथुन राशि के जातकों के लिए वर्ष 2021 का वर्षफल

शनिदेव, मिथुन राशि के जातकों के लिए लगभग लगभग वर्षभर अष्टमेश संचार होने के कारण ढैय्या का प्रभाव देता रहेगा और हर चीज में देरी करने का कार्य यहां पर वो करता रहेगा।

0
369
मिथुन राशि के जातकों के लिए वर्ष 2021 का वर्षफल | Year 2021 Varshphal for Gemini Jatakas
मिथुन राशि के जातकों के लिए वर्ष 2021 का वर्षफल | Year 2021 Varshphal for Gemini Jatakas

मिथुन राशि के जातकों के लिए वर्ष 2021 का वर्षफल
Year 2021 Varshphal for Gemini Jatakas


आने वाले वर्ष 2021 को कैसे हम वाकई में इसके नाम के अनुसार इक्कीस साबित कर सके। इसमें हम आपका योगदान कर सकते हैं। जी हां साथियो विभिन्न राशियों के बारे में हम चर्चा कर रहे हैं और आज हम बात करेंगे मिथुन राशि के बारे में, क्या क्या परेशानियां मिथुन राशि के जातक को आ सकती है। क्या क्या खुशखबरी मिथुन राशि के जातकों को 2021 में मिल सकती है, इसी के बारे में हम बहुत ही संक्षेप में बहुत ही सारगर्भित चर्चा करेंगे।

एक बार वर्ष प्रवेश की मिथुन राशि की कुंडली पर एक दृष्टिपात कर लें। बहुत ही सुंदर और बहुत ही अच्छे योग यहां पर निर्मित हो रहे है। परंतु एक यहां पर परेशानी है, थोड़ी सी चिन्ताजनक है, और वह है शनि की ढैया का होना। शनि जो है वो मिथुन राशि के जातकों के लिए लगभग लगभग वर्षभर अष्टमेश संचार होने के कारण ढैय्या का प्रभाव देता रहेगा और हर चीज में देरी करने का कार्य यहां पर वो करता रहेगा। व्यर्थ की दौड़ भाग अर्थात मेहनत उतनी ही लगती रहेगी, समय हमारा उतना ही लगता रहेगा, संसाधन या रिसोर्सेज उतने ही लगते रहेंगे, परंतु उस अनुपात में, उस परिप्रेक्ष्य में, रिजल्ट नहीं मिल पाएंगे। और तो और इस ढैया के कारण, कुछ घरेलू वजहों से, आपके व्यवसाय पर, फिर चाहे आप कोई व्यापार क्यों नहीं कर रहे हैं, या आप कोई नौकरी ही चाहे क्यों न कर रहे हैं, घर की कलह के कारण आप अपना हंड्रेड परसेंट वहां पर नहीं दे पायेंगे। शनि की इस ढैया का प्रभाव आपके दाम्पत्य जीवन का आनंद और साथ ही आपकी व्यावसायिक सफलताओं को कई प्रतिशत तक कम  देगा।

ये ढैया दोधारी तलवार की तरह नुकसान करेगी, पर चिन्ता का विषय आपके लिए इसलिये नहीं है क्योंकि जितनी भी परेशानी आपके साथ 2021 में आने वाली हैं, उन सबका बेहद ही आसान समाधान हो सकता है। क्या उपाय आप कर सकते हैं इस पर हम आगे चर्चा करेंगे।

जनवरी 2021 से मार्च 2021

साथ ही वर्ष के शुरू से ले करके और 25 जनवरी तक तो लगभग लगभग मैं इसको एक माह कहूं तो ग़लत नहीं होगा। ऐसे मेरे भाई और बहन जिनको श्वास अर्थात श्वसन तंत्र या ब्रीदिंग से या फेफड़ों से संबंधित कोई समस्या है पेट से संबंधित कोई समस्या है चाहे पाचनतंत्र की ही समस्या क्यों न हो। चर्म रोग अर्थात त्वचा से संबंधित कोई समस्या है उनको अतिरिक्त सावधानी यहां पर बरतनी होगी क्योंकि ये समस्याएं इस समय काल में बढ़ भी सकती हैं। 20 फरवरी तक का आगे का जो काल है उसमें हम देखेंगे कि बुध देव वक्री हो रहे है और वक्री होने के कारण आशा के विपरीत परिणाम देंगे। हम जीवन में सफलता के लिए चाहे वो व्यावसायिक हो या घरेलू हो उसके लिए जो योजना बनाएंगे उसमें किसी न किसी प्रकार के निराशाजनक परिणाम हमें प्राप्त हो सकते हैं। आगे जब बुध मार्गी हो जायेंगे वापस 21 फरवरी से आगे की मैं बात कर रहा हूं लगभग लगभग 31 मार्च तक। तब जीवन में आपके एक मंगल कार्यों की बयार आयेगी। यश में आपके वैभव में ऐश्वर्य मैं बहुत ही अतुलनीय वृद्धि होगी।

अप्रेल 2021 से मई 2021

बात आगे की करें कि एक अप्रेल से और लगभग लगभग पूरा मई यदि आप पकड़ लेते हैं, तो बुध के यहां पर अपनी नीच राशि अर्थात मीन में विचरण करने के कारण, आप स्वयं ही अपने किसी निर्णय के कारण अपने बनते हुए कार्य को बिगाड़ भी सकते हैं। इसलिए आपको सलाह यही है कि बहुत सोच समझ करके बहुत संतुलित निर्णय करके जीवन में किसी भी राह में आप आगे बढ़ें, जल्दबाजी इस समय में दिखाना अपने स्वयं के पैर पर कुल्हाड़ी मारने जैसा ही साबित हो जाएगा।

जून 2021

जून में बुद्धदेव पुनः वक्री हो जाएंगे। अनावश्यक खर्च यहां पर कराएंगे। आय के साधन कम हैं, और यदि आप व्यय ज्यादा कर रहे हैं, तो ये आपको ऋण लेने की स्थिति की तरफ ले जा सकते हैं। और इस प्रकार का खर्च करना किसी भी बुद्धिमान व्यक्ति के लिए बहुत ही ग़लत बात है, तो इससे आपको जरूर बचना चाहिए।

जुलाई 2021

जुलाई में बुध यहां पर स्वग्रही स्व राशिगत हो जाएंगे तो अपने परिवार के संग आपको समय बिताने का बहुत अच्छा अवसर मिलेगा। यात्रा का अवसर मिलेगा वो भी मयपरिवार, तो छुट्टियां आप ठीक से मनाइएगा, ताकि आपका जो मानसिक स्वास्थ्य है जो उत्साह है उसमें दोनों तरफ वृद्धि हो सके।

अगस्त 2021

साथ ही यदि बात अगस्त और सितंबर इन दो महीनों की करें तो किसी प्रकार का रुका हुआ धन जिसकी आप बहुत लंबे समय से प्रतीक्षा कर रहे थे, और हो सकता है कि आप उसको भूल बैठे हों, वो भी आपको वापस मिलेगा। और इसके अतिरिक्त कोई आकस्मिक खुशी भी आपको मिल सकती है, तो इसके लिए आपको ढेर सारी शुभकामनाएं।

अक्टूबर 2021 से दिसंबर 2021

सितंबर के बाद से ले करके जो आगे का लगभग लगभग जितना भी समय बचा है। तीन चार माह का वो पूरा का पूरा ही, कुछ व्यवसायों के लिए, चाहे आप ब्रोकरेज का कोई व्यवसाय कर रहे हैं, पत्रकार हैं, लेखन से संबंधित कोई कार्य करते है, प्रकाशक है, या अकाउंटेंट है, या बैंकर है, यदि इनमें से कोई भी व्यवसाय आपका है, तो आपको कागजी कार्यवाही बहुत ध्यान से पूरा पढ़ करके फिर वहां पर हस्ताक्षर करना है।

ज़मानत किसी की आपको इस कालखंड में देनी नहीं चाहिए। किसी सरकारी विवाद में आप फंस सकते हैं। किसी कागजी कार्यवाही में आप फंस सकते हैं।

उपाय

यदि 2021 को आप सही अर्थों में अपने लिए (मिथुन राशि की यहाँ पर बात चल रही है) बेहतर बनाना चाहते हैं, तो आपको क्या करना है। प्रत्येक बुधवार को आपको विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ निश्चित रूप से करना चाहिये। वर्ष पर्यन्त आपको यह करना चाहिए। अपनी दिनचर्या का हिस्सा बना लें। रोजाना करेंगे तो सोने पे सुहागा है, परन्तु प्रत्येक बुधवार को तो आपको करना ही करना है। सुबह भी पाठ कर सकते हैं, और संध्याकाल में भी। जो भी आप चयन करें, यदि सुबह का, तो फिर वर्ष पर्यन्त सुबह ही करना है, और संध्या का यदि चयन करते हैं तो फिर वर्ष पर्यन्त आपको संध्याकाल में ही पाठ करना है।